Arithmetic and marriage

Few days ago, I read a newspaper story. On suspecting that bridegrooms is illiterate, the bride put him under an arithmetic test: "how much is 15 + 6?". And when the answer given was 17, she called off the marriage. A few childhood memories popped up. When I was a kid, my father asked me … Continue reading Arithmetic and marriage

Advertisements

Thinking about Languages

“Don’t you see that the whole aim of Newspeak is to narrow the range of thought? In the end we shall make thoughtcrime literally impossible, because there will be no words in which to express it. Every concept that can ever be needed will be expressed by exactly one word, with its meaning rigidly defined … Continue reading Thinking about Languages

वो आँखे

टखनों पर रखे अपने सर को रोकते अपने कापते हाथो को, उस अँधेरे कमरे में वो आँखे देख रही है, प्रकाश की वो शिखा जो जल रही है उस केरोसीन से जो घर में अब नहीं है बचा। वेदना तो भी दया आती नहीं , देखकर उसकी दशा। जो जी रही है केवल मृत्यु के … Continue reading वो आँखे

बचपन याद आता है

मुझे बचपन याद आता है। सुबह सवेरे उठना और नहाना मंदिर में जाना और जल चढाना। पाठशाला का रास्ता, किताबे और बस्ता। मेले में गुब्बारे जलेबी पर मचलना, नहाना नहर में और इमली पर चढ़ना। खरबूजों का खेत अकसर सताता है। मुझे बचपन याद आता है। जुते खेतो में बिचरना, फिसलकर मेड से गिरना, भैय्या … Continue reading बचपन याद आता है